What is SSL, how does it work and where to buy it?

एसएसएल क्या है, यह कैसे काम करता है और इसे कहां से खरीदें?

एसएसएल इंटरनेट में उपयोग किया जाने वाला एक एन्क्रिप्शन प्रोटोकॉल है। यह प्रोटोकॉल इंटरनेट ब्राउज़र और वेबसाइटों के बीच एक सुरक्षित कनेक्शन प्रदान करता है जो इंटरनेट उपयोगकर्ताओं को अन्य वेबसाइटों के साथ अपने निजी डेटा का सुरक्षित रूप से आदान-प्रदान करने की अनुमति देता है। एसएसएल का फुल फॉर्म सिक्योर सॉकेट लेयर होता है।

आज के समय में लगभग सभी वेबसाइट SSL का इस्तेमाल कर रही हैं। एसएसएल प्रोटोकॉल का इस्तेमाल ऑनलाइन कारोबार करने वाले करोड़ों लोगों द्वारा किया जा रहा है ताकि वे अपने ग्राहकों और उनके द्वारा किए जा रहे ऑनलाइन लेनदेन की सुरक्षा कर सकें और इसके इस्तेमाल से हैकर के लिए उस संपर्क के बीच से ग्राहक का डेटा चोरी करना असंभव हो जाएगा।

एसएसएल का उपयोग करने वाली वेबसाइटों का एक डोमेन नाम (जैसे www.digitalchandra.in) होता है, जिसके साथ एक लॉक लॉक की तस्वीर जुड़ी होती है, जो हमारे इंटरनेट ब्राउज़र के यूआरएल में दिखाई देती है और एचटीटीपी के बजाय https लिखा होता है। डोमेन नेम से पता चलता है कि वेबसाइट पूरी तरह से सिक्योर है।

अगर कोई यूजर एड्रेस बार में दिखने वाले लॉक की तस्वीर पर क्लिक करता है तो वहां से यूजर जो वेबसाइट देख रहा है वह यूजर को उस वेबसाइट की एसएसएल सर्टिफिकेशन, आइडेंटिफिकेशन और अन्य सभी जानकारियां दिखाती है।

हर वेबसाइट का एक यूनिक एसएसएल सर्टिफिकेट होता है।

  1. एसएसएल के साथ: https://yoursite.com
  2. एसएसएल के बिना: http://yoursite.com

एसएसएल को टीएलएस (ट्रांसपोर्ट लेयर सिक्योरिटी) प्रोटोकॉल भी कहा जाता है। इसका उपयोग न केवल वेबसाइट में बल्कि ई-मेल और अन्य सभी जगहों पर भी किया जा सकता है।

यदि कोई व्यक्ति ई-कॉमर्स साइट चला रहा है तो उसके लिए एसएसएल का उपयोग करना बहुत जरूरी है क्योंकि इस साइट में भुगतान करने के लिए ग्राहक से उसकी सारी जानकारी ली जाती है।

एसएसएल कैसे काम करता है?

आप तो जानते ही होंगे कि SSL क्या है? तो आइए जानते हैं यह कैसे काम करता है? एसएसएल प्रमाणपत्र दो प्रकार की चाबियों का उपयोग करता है; एक सार्वजनिक कुंजी है और दूसरी निजी कुंजी है। ये दोनों कुंजियाँ मिलकर एक सुरक्षित कनेक्शन बनाती हैं जिसके माध्यम से डेटा को सुरक्षित तरीके से साझा किया जाता है।

उपयोगकर्ता अपने ब्राउज़र से उस वेबसाइट के सर्वर से अपनी पहचान देने का अनुरोध करता है। रिक्वेस्ट देने के बाद वेब सर्वर अपने एसएसएल सर्टिफिकेट की एक कॉपी के साथ पब्लिक की ब्राउजर को भेजता है।

उसके बाद उपयोगकर्ता उस प्रमाणपत्र की जांच करता है ताकि उपयोगकर्ता यह तय कर सके कि वह उस वेबसाइट के साथ अपना निजी डेटा साझा करने के लिए उस पर भरोसा कर सकता है या नहीं। जाँच करने के बाद, जब उपयोगकर्ता उस पर भरोसा करने का फैसला करता है, तो वह फिर से अपने सर्वर पर एक एन्क्रिप्ट संदेश भेजता है।

एसएसएल के प्रकार

एसएसएल कई प्रकार के होते हैं और वे विभिन्न वेबसाइटों के लिए अलग-अलग होते हैं। कुछ सस्ते हैं और कुछ महंगे हैं। आइए जानते हैं इनके बारे में।

1. वाइल्डकार्ड एसएसएल सर्टिफिकेट इस एसएसएल सर्टिफिकेट की मदद से आप अपने डोमेन और सभी सब-डोमेन को सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं। यहां आपको डोमेन और संगठन सत्यापन मिलता है।

2. मल्टी-डोमेन (सैन) एसएसएल सर्टिफिकेट मल्टी-डोमेन एसएसएल की मदद से आप अधिकतम 250 डोमेन को सुरक्षित रख सकते हैं। यहां आपको Domain Validation, Organization Validation और Extended Validation मिलता है।

3. ईवी एसएसएल प्रमाणपत्र यह एसएसएल आपके व्यवसाय के लिए डिज़ाइन किया गया है, जो वेब ब्राउज़र के एड्रेस बार को हरा-भरा करने के साथ-साथ आपके व्यवसाय का नाम दिखाता है। यह एक उच्च मान्यता प्राप्त और एन्क्रिप्टेड एसएसएल प्रमाणपत्र है।

4. डोमेन वेरिफाइड एसएसएल ज्यादातर ब्लॉगर और छोटी वेबसाइट इसका इस्तेमाल करते हैं। यह मध्यम स्तर की सुरक्षा प्रदान करता है।

5. संगठन सत्यापन एसएसएल इसका उपयोग ऑनलाइन व्यापार को सत्यापित करने और सुरक्षा प्रदान करने के लिए किया जाता है। इससे ग्राहक को पता चलता है कि वे एक सुरक्षित और सत्यापित वेबसाइट पर जा रहे हैं।

6. कोड साइनिंग सर्टिफिकेट इसकी मदद से आप अपने सॉफ्टवेयर कोड को सुरक्षित रख सकते हैं। इसके साथ ही यह आपकी फाइलों और एप्लिकेशन को सुरक्षा भी प्रदान करता है।

7. मल्टी डोमेन वाइल्डकार्ड एसएसएल सर्टिफिकेट अगर आप एक साथ कई डोमेन और उनके सभी सब-डोमेन को सिक्योर करना चाहते हैं तो आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं। इसमें 250 डोमेन और उनके सभी उप-डोमेन को सुरक्षित रखने की क्षमता है

एसएसएल कहां से खरीदें?

एसएसएल सेवा कई बड़ी कंपनियों द्वारा प्रदान की जाती है जिनमें से कुछ नाम हैं – गोडाडी, बिगरॉक, होस्टगेटर इत्यादि। जब हम अपनी वेबसाइट के लिए होस्टिंग सर्वर खरीदते हैं, तो वह होस्टिंग कंपनी एसएसएल सेवा भी प्रदान करती है जहां हम होस्टिंग खरीद सकते हैं और साथ ही एसएसएल प्रमाणपत्र भी खरीद सकते हैं। हमारी वेबसाइट के लिए जो हमारी वेबसाइट को सुरक्षित रखेगी।

अगर हम दी गई कंपनियों से एसएसएल सर्टिफिकेट खरीदते हैं, तो हमें उसमें दी गई राशि को भरना होगा, तभी हम इसका पूरा फायदा उठा पाएंगे। लेकिन कई कंपनियां ऐसी भी हैं जो एसएसएल सेवाएं मुफ्त में मुहैया कराती हैं। उनमें से एक का नाम लेट्स एनक्रिप्ट है, यह इंटरनेट रिसर्च का एक प्रोजेक्ट है

ग्रुप जो आम लोगों को मुफ्त में एसएसएल सर्टिफिकेट प्रदान करता है। Let’s Encrypt Google, Facebook, Mozilla, Cisco, आदि जैसी कई कंपनियों द्वारा प्रायोजित है।
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x
%d bloggers like this: